स्वराज ख़बर

आज की ताज़ा ख़बर

अतिवृष्टि-अल्पवर्षा दोनों स्थितियों से निपटने तैयार रखें वैकल्पिक योजना: डॉ. अलंग

रायपुर

संभागायुक्त डॉ. संजय अलंग ने कार्यालय के सभाकक्ष में कृषि और संवर्गीय विभागों के कामकाज की संभाग स्तरीय समीक्षा की। डॉ. अलंग ने पांचों जिलों के कृषि, पशुपालन, मछलीपालन और उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को बारिश की अनिश्चितता को देखते हुए अतिवृष्टि और अल्पवर्षा दोनो ही स्थितियों से निपटने के लिए वैकल्पिक योजना भी तैयार रखने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों से संभाग में आज तक हुई बारिश और फसलों की बोनी आदि की भी जानकारी ली। डॉ. अलंग ने दलहनी और तिलहनी फसलों को चालू खरीफ मौसम के निर्धारित लक्ष्य अनुसार बोआई कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए। संभागायुक्त ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को ग्रामीण इलाकों में पशुओं के टीकाकरण में तेजी लाने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने चालू खरीफ मौसम में खेतों में लगी फसलों को मवेशियों की चराई से बचाने के लिए रोका-छेका अभियान को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करने के निर्देश भी दिए। संभागायुक्त ने कृषि, पशुपालन, उद्यानिकी फसलों के उत्पादन सहित मछली पालन को ग्रामीणों के रोजगार के रूप में स्थापित करने के लिए भी विशेष प्रयास करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में रायपुर संभाग में शामिल जिलों रायपुर, धमतरी, गरियाबंद, महासमुंद और बलौदाबाजार-भाटापारा के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।
संभागायुक्त डॉ. अलंग ने बैठक में कृषि और उससे जुड़े विभागों को ग्रामीण अर्थव्यवस्था की धुरी बताया।

उन्होंने विभागों की शासकीय योजनाओं का विस्तार अधिकारियों के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों तक प्रचार-प्रसार पर जोर दिया। डॉ. अलंग ने कहा कि विभागीय योजनाओं की पूरी जानकारी ग्रामीण विस्तार अधिकारियों को रहे ताकि वे ग्रामीणों को संतुष्टि के स्तर तक योजनाओं की समझाइस दे सकें। संभागायुक्त ने यह भी कहा कि खेती-किसानी, मछली पालन से लेकर सब्जी उत्पादन, फल-फूल उत्पादन और पशुपालन की नई-नई तकनीकों को भी ग्रामीणों को अधिक से अधिक बताया जाए ताकि वे इन तकनीकों से उत्पादन को बढ़ाकर ज्यादा से ज्यादा लाभ ले सके। डॉ. अलंग ने राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं के प्रचार-प्रसार और शत-प्रतिशत लक्ष्य पूर्ति के लिए भी प्रयास करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

बैठक में डॉ. अलंग ने चालू खरीफ मौसम के संदर्भ में खेती-किसानी के लिए खाद-बीज-दवा, पशुओं के टीकाकरण के वैक्सीन, मछली उत्पादन के लिए बीज और अन्य जरूरी वस्तुएं, उद्यानिकी फसलों के बीज, दवा आदि की उपलब्धता और वितरण की भी जानकारी अधिकारियों से ली। उन्होंने निर्देशित किया कि किसी भी स्थिति में किसानों को बीज-खाद-दवा आदि वस्तुओं की कमी ना हो। खेती-किसानी, पशुपालन आदि से जुड़ी आदान सामग्रियों का पहले से ही पर्याप्त मात्रा में भण्डारण सुनिश्चित कर लिया जाए। इन सामग्रियों की किसानों को उपलब्धता भी सरलता और सुगमता से सुनिश्चित कराने के निर्देश संभागायुक्त ने अधिकारियों को दिए।